झारखण्डताजा खबरेराँची

Ranchi : भाकपा माओवादी का एरिया कमांडर विमल लोहरा ने किया जिला प्रशासन के समक्ष आत्मसमर्पण

Jharkhand : भाकपा माओवादी का एरिया कमांडर विमल लोहरा ने किया जिला प्रशासन के समक्ष आत्मसमर्पण किया, उपायुक्त शशी रंजन और एसपी आशुतोष शेखर ने माला पहना कर मुख्यधारा में स्वागत किया! विमल लोहरा (39 ) अड़की थाना के रायतोड़ांग गांव निवासी संबर पाहन का बेटा है। वह पिछले दस वर्षों से भाकपा माओवादी संगठन से जुड़ा था। उसके खिलाफ हत्या, रंगदारी, अपहरण्, आर्म्स एक्ट, सीएलसी सहित कई संगीन धाराओं के तहत अड़की, सायको, मुरहू सहित कई अन्य थानों में एक दर्जन से अधिक मामले दर्ज हैं। एसपी कार्यालय में आत्मसमर्पण करने के बाद विमल लोहरा ने कहा कि राज्य सरकार की वामपंथी उग्रवादियों की समर्पण और पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर उसने आत्मसमर्पण किया और वह समाज की मुख्यधारा में शामिल होकर परिवार के साथ जीवन गुजारना चाहता है।

और पढ़ें : सरकार के पास नियुक्ति नियमावली में संशोधन का कोई प्रस्ताव नहीं : आलमगीर आलम

नक्सलियों ने पुलिस का जासूस बताकर मारपीट की

विमल लोहरा ने बताया कि उसका गांव रायतोड़ांग घोर उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र है। वह 2012 में भाकपा माओवादी संगठन से जुड़ गया। 2012 में वह जोनल कमांडर कुंदन पाहन, डिंबा पाहन और श्याम श्याम पाहन आदि के साथ गांव और अन्य इलाकों में रहता था। दो जून 2012 को पुलिस पार्टी उसके गांव रायपुरा क्षेत्र में ड्यूटी करने आई थी। पुलिस पार्टी की मोटरसाइकिल खराब हो गयी थी। पुलिस पार्टी ने खराब वाहन को अपने साथ ले जाने के लिए गांव वालों से रस्सी की मांग की तो विमल ने अपने घर से पुलिस पार्टी को प्लास्टिक की रस्सी ला कर दिया। उसके बाद पुलिस पार्टी खराब गाड़ी को टोचन करके अपने साथ ले गयी। इस बात की जानकारी भाकपा माओवादी के जोनल कमांडर कुंदन पाहन, डिंबा पाहन और श्याम पहन को हुई। इसके एक महीने बाद जुलाई महीने में भाकपा माओवादी के हथियारबंद सदस्य डिंबा पाहन ने अपने दस्ते के साथ रात 10-11 बजे विमल के घर जाकर दरवाजा खुलवाया और उसे पुलिस का जासूस होने का आरोप लगाते हुए उसके साथ मारपीट करने लगा। डिब्बा पहन अपने हाथ में पकड़े हथियार से उसके चेहरे पर मारा, तो उसकी ठुड्डी कट गई। मारपीट होता देख उसकी पत्नी ने उसे बचाने की कोशिश की तो, उसे भी पार्टी के सदस्यों द्वारा मारा-पीटा गया। बाद में उसे जोर जबरदस्ती पकड़कर डिंबा पाहन अपने सदस्यों के साथ रूगडू जंगल लेकर चला गया, जहां उसे रात भर हाथ पैर बांधकर रखा गया। सुबह होने पर लगभग नौ बजे जोनल कमांडर कुंदन पाहन अपने हथियारबंद दस्ते के साथ रूगडू जंगल आया। कुंदन पहन ने उसे पुलिस का जासूस होने का झूठा आरोप लगाकर पूछताछ की। विमल ने इस आरोप को नकार दिया। तब कुंदन पहन ने डिंबा पाहन को निगरानी रखने को कहा और वहां से चला गया। उसने कई बार भागने की कोशिश की, पर हर बार पकड़ा गया।

इसे भी देखें : एक बार जरूर जाएं नकटा पहाड़…

कई हत्याकांड और नक्सली वारदातों में शामिल था विमल लोहरा

चलकत एरिया कमेटी के एरिया कमांडर विमल लोहरा उर्फ बिरसा पाहन ने पुलिस के समक्ष स्वीकार किया कि 20 दिसंबर 2015 में एतरेडही अडकी में स्व लाका मुंडा की बेटी बिरसी समद की पुलिस मुखबिरी का आरोप लगाकर गोली मारकर हत्या कर देने के मामले में वह शामिल था। 2016 में ग्राम कुरुंदा में पुलिस पार्टी पर हमल, 2017 में अप्रैल महीने में बिरबांकी प्रोजेक्ट हाई स्कूल, अस्पताल, प्रोजेक्ट भवन और टावर को विस्फोट कर उड़ा देने की घटना में भी विमल शामिल था। 2017 के सितंबर महीने में मुरहू थाना के कीताहातू चौक में पुलिस जवान आशियन पूर्ति की गोली मारकर हत्या कर देने और मोटरसाइकिल ले जाने के मामले में भी वह शामिल था। वर्ष 2018 के फरवरी महीने में अड़की थाना के चलकद कुदालाता जंगल के पास हरवे हथियार से लैस होकर पुलिस बल पर हमला और 2018 के अगस्त महीने में माओवादी बंदी के दौरान खूंटी’तमाड़ रोड पर आड़ा घाटी में पंजाबी ट्रेलर चालक की गोली मारकर उसे ट्रेलर में आग लगाकर जला देने के मामले में भी विमल की संलिप्तता थी। आत्मसमर्पण करने वाले नक्सली ने कहा कि अब भाकपा माओवादी अपनी दिशा और सिद्धांत से भटक गए हैं और यह शोषण और लेवी वसूलने वाला संगठन बन कर रह गया है। उसने दूसरे नक्सलियों और उग्रवादियों से भी आत्मसमर्पण करने और हथियार डालने की अपील की|

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और खबरें देखने के लिए यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। www.avnpost.com पर विस्तार से पढ़ें शिक्षा, राजनीति, धर्म और अन्य ताजा तरीन खबरें

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button