International :”अल कायदा” एक बार फिर से चर्चा में

International : अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन भी कह चुके हैं कि उनका मिशन कामयाब रहा है। ओसामा बिन लादेन को मार दिया है। दूसरी ओर कैपिटल हिल पर मंगलवार को एक सुनवाई में, विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने सीनेट की विदेश संबंधी समिति को बताया कि अल-कायदा, अफगानिस्तान से हमले करने की अपनी क्षमता के मामले में बुरी तरह टूट चुका है। यूएस ने ‘अलकायदा’ को उठने लायक नहीं छोड़ा है।

और पढ़ें : Entertainment : आखिर क्यों मांगनी पड़ी देसी गर्ल (प्रियंका चोपड़ा) को लोगों से माफी, जाने क्या है मामला

अस्सी के दशक में पेशावर (पाकिस्तान) में ओसामा बिन लादेन ने जिस ‘अल-कायदा’ की नींव रखी थी, आज वह फिर से चर्चा में है। अल-कायदा, वही खूंखार आतंकवादी संगठन है, जिसने अमेरिका में 9/11 को हमला कर दुनियाभर में हड़कंप मचा दिया था। अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होने के बाद यह आतंकी संगठन क्या दोबारा से फन उठा रहा है, अमेरिकी प्रशासन और उसकी इंटेलिजेंस एजेंसी ‘सीआईए’ के पास इस बाबत भरोसे वाले इनपुट का अभाव है। सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी के उप निदेशक डेविड कोहेन ने कहा है, अफगानिस्तान में अल-कायदा की संभावित गतिविधियों के कुछ संकेत दिखने लगे हैं। अभी शुरुआती दिन हैं, हम स्पष्ट रूप से उस पर बहुत कड़ी नजर रखेंगे।

विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन कहते हैं, अफगानिस्तान से हमला करने की अल-कायदा की क्षमता अत्यधिक निम्न स्तर की है। वर्तमान में इसका मूल्यांकन करें तो उसके पास वह क्षमता है ही नहीं। जनता को आश्वस्त करने के लिए तो यह दावा ठीक है, लेकिन ‘अल-कायदा’ और ‘आईएस’ जैसे आतंकी संगठनों की ग्राउंड पोजिशन जांचने की जब बारी आती है तो ‘सीआईए’ के पास पुख्ता इंटेलिजेंस इनपुट का अभाव दिखता है। अल-कायदा पर ठोस होमवर्क करने की जरुरत है। अफगानिस्तान के मामले पर लगातार नजर रख रहे पूर्व आईपीएस डॉ. एनसी अस्थाना कहते हैं, अफगानिस्तान में इस आतंकवादी नेटवर्क को लेकर ‘सीआईए’ की क्षमता संदिग्ध है।

इसे भी देखे : विराट कोहली ने किया बड़ा ऐलान, वर्ल्ड कप के बाद छोड़ेंगे टी-20 टीम की कप्तानी

पिछले 20 वर्षों में जब अमेरिका और सहयोगी देशों ने वहां पर सैन्य कार्रवाई की, तो ये आतंकी संगठन तितर-बितर हो गए थे। अमेरिकी खुफिया एजेंसियों को शुरुआती संकेत मिल रहे हैं कि अल-कायदा के आतंकवादियों ने अफगानिस्तान लौटना शुरू कर दिया है। सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी के उप निदेशक डेविड कोहेन ने एक दिन पहले ही यह बात मानी है कि अफगानिस्तान में अल-कायदा की गतिविधियों के कुछ संभावित संकेत दिखने लगे हैं। अमेरिकी खुफिया एजेंसी ‘सीआईए’ का अनुमान, जिसमें बदलाव संभव है, यूएस को धमकी देने की क्षमता का पुनर्गठन करने में अल-कायदा को एक से दो साल लगेंगे।

This post has already been read 51112 times!

Related posts