एमिटी के नए बैच के लिए ऑनलाइन आयोजित किया छठा “ओरिएंटेशन प्रोग्राम”

Ranchi : एमिटी यूनिवर्सिटी झारखंड में दो दिवसीय अभिविन्यास कार्यक्रम शुरू हुआ। एमिटी आधुनिकता और संस्कृति के लिए जाना जाता है। एमिटी की परंपरा के अनुसार, सभी छात्रों, अभिभावकों, फैकल्टी सदस्यों और कर्मचारियों ने अपनी पेशेवर यात्रा की शुभ शुरुआत को चिह्नित करने के लिए सर्वशक्तिमान ईश्वर से आशीर्वाद लेने के लिए हवन में ऑनलाइन भाग लियाl

और पढ़ें : अनुसूचित जाति सहकारिता विकास निगम लि० के निदेशक मंडल के सदस्यों का चुनाव 17 नवंबर को

कार्यक्रम को डॉ. अतुल चौहान, चांसलर, एमिटी एजुकेशन ग्रुप ने संबोधित किया। बातचीत करते हुए उन्होंने छात्रों को बड़े सपने देखने के लिए प्रेरित किया और सलाह दी कि “आप सभी ने आज कई सफल लोगों की बात सुनी है, उनसे सीखने की कोशिश करें।” कार्यक्रम छात्रों और विश्वविद्यालय के सभी गणमान्य व्यक्तियों के बीच एक लाइव सत्र था जिसमें एमिटी एजुकेशन ग्रुप के वरिष्ठ उपाध्यक्ष श्री यू रामचंद्रन ने अपने प्रेरक शब्दों के साथ सत्र की शोभा बढ़ाई। उन्होंने एमिटी यूनिवर्सिटी के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. अशोक के चौहान के दृष्टिकोण के बारे में जानकारी दी और कहा कि “वह प्रतिभाशाली संकाय फैकल्टी के माध्यम से अकादमिक उत्कृष्टता प्रदान करना चाहते हैं।

उनका मिशन प्रत्येक छात्र को एक सफल कहानी बनाना है।” उन्होंने विभिन्न एमिटी परिसरों के उद्भव और इसने शिक्षा की परिभाषा को कैसे बदल दिया, इसके बारे में भी संक्षेप में बताया। कार्यक्रम को एमिटी एजुकेशन ग्रुप के वाइस प्रेसिडेंट श्री गौरव गुप्ता ने संबोधित किया। उन्होंने छात्रों से बातचीत की और कहा कि एमिटी आपका घर है और हमेशा आपका साथ देगी।

ज्यादा ख़बरों के लिए आप हमारे फेसबुक पेज पर भी जा सकते हैं : Facebook

उन्होंने यह भी कहा कि हम आपको भविष्य के लिए तैयार कर रहे हैं और आप यहां नौकरी के लिए नहीं बने हैं, बल्कि आपके लिए रोजगार पैदा होगा, यह एमिटी की प्रतिबद्धता हैl (डॉ.) रमन कुमार झा, कुलपति, एमिटी यूनिवर्सिटी झारखंड ने एमिटी में अपने अनुभव साझा किए और छात्रों को एक उद्देश्य के लिए जीने के लिए कहा और कहा कि “हमारा उद्देश्य केवल जीना नहीं है, बल्कि एक उद्देश्य के लिए जीना है।” एमिटी यूनिवर्सिटी झारखंड के निदेशक प्रो. (डॉ.) अजीत कुमार पांडेय ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि “हम शिक्षित छात्रों को न केवल योग्य छात्र चाहते हैं, हम यह भी चाहते हैं कि छात्र समाज में अपनी पहचान बनाएं।”

उन्होंने आगे अभिविन्यास कार्यक्रम के महत्व पर जोर दिया और कहा ” इसका उद्देश्य दिखाना था कि एमिटी छात्रों के लिए क्या कर रही है और विगत भविष्य में यह क्या करने वाली है साथ ही साथ छात्रों और विभिन्न फैकेल्टियों के बीच शिक्षण प्रशिक्षण को लेकर घनिष्ठता बड़े इसको लेकर यह कार्यक्रम आयोजित किए गए थे” आगे श्री प्रभाकर त्रिपाठी, रजिस्ट्रार, एमिटी यूनिवर्सिटी झारखंड ने समापन टिप्पणी देते हुए कहा कि हम शिक्षा प्रणाली का चेहरा बदल रहे हैं, और उनके शब्दों का समर्थन करते हुए कहा कि “एमिटी लगातार विकसित हो रही है और नए शैक्षिक उपकरणों को अपना रही है। सत्र में छात्रों को विश्वविद्यालय के मानदंडों और कार्यक्षमता से परिचित कराने के लिए एमिटी परिवार और संस्कृति की कुछ झलक दिखाकर स्वागत किया।

This post has already been read 13830 times!

Related posts