देश में 44 नए केंद्रीय विद्यालयों के निर्माण के लिए मिलेंगे 484 करोड़: जावड़ेकर

नई दिल्ली। देश के विभिन्न राज्यों में 44 नए केंद्रीय विद्यालयों के भवन निर्माण के लिए उच्च शिक्षा वित्तपोषण एजेंसी(हीफा) कुल 484 करोड़ रुपये का अनुदान देगी। एजेंसी प्रत्येक विद्यालय को 11 करोड़ रुपये की दर से भुगतान करेगी। हीफा की बैठक में यह निर्णय लिया गया।
केंद्र सरकार ने देश में उच्च शिक्षा पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हुए नए आईआईएम, आईआईटी, आईआईएसईआर और एम्स के निर्माण के लिए बजट अलग रखा है। संस्थानों में विश्वस्तरीय बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए एक उच्च शिक्षा अनुदान एजेंसी(हीफा) शुरू की गई है। हीफा ने 7 जनवरी को अपनी बैठक में 815 करोड़ रुपये(आईआईटी), 1206.17 करोड़ रुपये(आईआईएम), 1050 करोड़ रुपये(आईआईएसईआरएस), 29.15 करोड़ रुपये(आईआईएससी) और 182 करोड़ रुपये(एनआईटी) के लिए मंजूर किए हैं।
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को बताया कि हीफा ने 44 नए केंद्रीय विद्यालयों(केवी) को भवन निर्माण के लिए प्रत्येक को 11 करोड़ रुपये देने का फैसला किया है। उन्होंने बताया कि इस सूची में मध्य प्रदेश में 8, छत्तीसगढ़ में 6, झारखंड में 5, तेलंगाना, कर्नाटक और राजस्थान में 4-4, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और केरल में 2-2, अरुणाचल प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, मणिपुर, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और हरियाणा से 1-1 केंद्रीय विद्यालय शामिल हैं।
केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि हीफा ने उच्च शिक्षा संस्थानों को वित्तपोषण के एक अनोखे तरीके के तहत इस सप्ताह 5310 करोड़ रुपये की परियोजना स्वीकृत की है। हीफा के तहत लगभग 30000 करोड़ रुपये की परियोजनाएं स्वीकृत हैं। उन्होंने कहा कि यह 85000 करोड़ रुपये के बजट परिव्यय अतिरिक्त हैं। शिक्षा के लिए कुल आवंटन 1.15 हजार करोड़ से अधिक हो गया है। इस नवीन वित्त पोषण पैटर्न के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उच्च शिक्षा के बुनियादी ढांचे के विकास के लिए बधाई।

This post has already been read 600 times!

Sharing this

Related posts

Leave a Comment