कहानी: पीपल का पेड़

-डॉ. गीता गीत- आज धीरेन्द्र दा के सारे कार्यक्रम सम्पन्न हो गये। एक-एक करके सभी मेहमान जा चुके हैं। सबेरे पंकज भी परिवार सहित अपने मामा ससुर के घर चला गया है। पर जाते-जाते धीरा बौदी से बोल गया है-मां, तुम खूब सोच लो, मैं कल आऊंगा। मुझे तुम्हारे फैसले का इंतजार है। तुम सोच समझकर कल अपना फैसला बता देना। इक्का-दुक्का मिलने वालों का क्रम जारी है। फिर भी लग रहा है चारों ओर निस्तब्धता व्याप्त है। शाम घिर आयी है। धीरा घर के आंगन के पीपल के पेड़…

Read More

सर्दियों में भी आंखों के लिए जरूरी हैं धूप के चश्मे

दुनिया के लगभग कुछ ही देश ऐसे हैं, जहां मौसम के चार रूप होते हैं। भारत में चार मौसम का हम आनंद लेते हैं। ये मौसम का ही असर है जो हमारे फैशन व स्टाइल को बदल देते हैं। हर मौसम का अपना फैशन ट्रेंड होता है। सर्दियां बस आने ही वाली हैं ऐसे में हम बात करते हैं सूरज के किरणों की। गर्मियों में, तो हम अपने आंखों को चश्मे से इन नुकसानदायक किरणों से बचा लेते हैं। मगर सर्दियों में हम इन किरणों को नजरअंदाज कर देते हैं।…

Read More

फेस्टिव सीजन में ये एप्स आपके लिए हो सकती हैं वरदान

टेक्नोलॉजी की दुनिया अब काफी बढ़ी हो चुकी है। जैसे हमारे आधे से ज्यादा जरुरी काम हमारा लेटेस्ट टेक्नोलॉजी वाला स्मार्टफोन करता है वैसे ही कई कमाल की एप्लीकेशन भी हैं जो हमारे बढ़े से बढ़े काम को हल्का कर देती हैं। अब जब आज त्यौहारों का सीजन है तो चलिए बात करते हैं कुछ ऐसी एप्स की जो त्यौहार के सीजन में हमारी जरुरत बन जाती हैं। बाकी एप्स की तरह ही ये एप्स भी काफी मददगार है…। फाइनेंशियल प्लानिंग वाली एप्स त्यौहार का सीजन हो और खर्चा न…

Read More

मकसद के मायने

हर इंसान के जीने का कोई न कोई मकसद होता है, लेकिन अक्सर हम अपने मकसद की पहचान नहीं कर पाते। अपने मकसद को पहचान कर कैसे बढ़ें आगे, बता रहे हैं हम… सबसे पहले दो उदाहरणों पर गौर करें। अखिलेश ने बारहवीं के बाद बिना किसी योजना या स्ट्रेटेजी के ग्रेजुएशन के लिए एक कॉलेज में अप्लाई कर दिया। वहां सीट फुल हो जाने के कारण कई प्रमुख विषय उपलब्ध नहीं थे। चूंकि अखिलेश ने आगे के लिए कुछ सोचा ही नहीं था, इसलिए उसने कहा, ग्रेजुएशन ही तो…

Read More

हिंदूधर्म की कुछ आवश्यक बातें

विश्व इतिहास में दुनिया का सबसे पुराना धर्म सनातन धर्म यानी हिंदू धर्म को माना गया है। आदिकाल से इस धर्म को मानने वाले लोग इस पृथ्वी पर मौजूद हैं। हिंदू धर्म के बाद ही अन्य धर्मों का जन्म हुआ। लेकिन हिंदूधर्म की कुछ ऐसी बातें हैं जिन्हें विज्ञान भी 101 प्रतिशत सही मानता है। अमूमन हम इस तरह के क्रियाकलाप से हर दिन रू-ब-रू होते हैं लेकिन इनके पीछे के विज्ञान को नहीं जानते इस क्रम में पहले भाग में हम कुछ बातों को जानते हैं। इसीलिए दोनों हाथ…

Read More

भारत का मिनी स्विट्रजरलैंड खजियार

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में स्थित खजियार को भारत का मिनी स्विट्जरलैंड कहा जाता है। खजियार के अलावा, यहां के आस-पास का प्राकृतिक सौंदर्य पर्यटकों को खूब आकर्षित करता है… हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में बेहद खूबसूरत स्थल है खजियार। समुद्र तल से करीब 2000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह स्थल पश्चिम हिमाचल की धौलाधार पर्वत शृंखला के बीच में बसा है। खजियार का नाम यहां स्थित च्खजी नागज् के मंदिर के कारण पड़ा माना जाता है। इस स्थल की भौगोलिक संरचना के कारण इसे भारत का…

Read More

बच्चों कों सिखाएं तमीज और तहजीब

जो बच्चा साफ-सुथरे ढंग से रहता है, वह सभी को प्यारा लगता है। अतः बच्चो का शरीर, नाखून, बाल, कपड़े, जूते इत्यादि साफ हों। -खांसी आने पर मुंह पर हाथ रखना सिखाएं। जुकाम होने पर रुमाल रखना अति आवश्यक है। -सबके बीच में नाक, कान, दांत कुरेदने की आदत ठीक नहीं है। -अपने निजी सामान (ड्रेस, जूते, कापी-किताब इत्यादि) को करीने से यथास्थान रखने की आदत डालें। -प्रयोग किए हुए डिस्पोजेबिल आइटम इधर-उधर न फेंककर डस्टबिन में ही डालना सिखाएं। -जब कोई बाहरी व्यक्ति घर में मिलने आए तो खड़े…

Read More

सुविधाजनक हो रेस्टरूम

रेस्टरूम घर का अहम हिस्सा होते हैं। इनकी साज-सज्जा पर भी उतना ही ध्यान देने की जरूरत होती है, जितना कि घर के बाकी हिस्सों पर।। जरा सी भी कमी या अव्यवस्था सुबह से ही आपका मूड खराब कर देगी। जानते हैं कि कैसे रख सकते हैं अपना रेस्टरूम भी ऐसा कि लोग आपकी तारीफ किए बिना रह न सकें। रेस्टरूम घर का वह कोना होता है जो सिर्फ घर वाले ही नहीं बल्कि घर आए मेहमान या दोस्त भी अकसर इस्तेमाल करते हैं। ऐसा भी कहा जाता है कि…

Read More

विश्व सरकार बनाकर विश्व बचत दिवस को शत प्रतिशत सफल बनाया जा सकता

-प्रदीप कुमार सिंह प्रथम अंतर्राष्ट्रीय बचत कांग्रेस का आयोजन मिलान शहर (इटली) में वर्ष 1924 में किया गया था। इस अवसर पर 31 अक्टूबर को विश्व बचत दिवस के रूप में प्रतिवर्ष मनाने की घोषणा की गयी थी। विश्व बचत दिवस की स्थापना दुनिया भर के लोगों को अपने पैसे की बचत, घर पर या अपने गद्दे के नीचे रखकर करने के बजाए बैंक में जमा करने के बारे में जागरूक करने के लिए की गई थी। 31 अक्टूबर 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के निधन के कारण…

Read More

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी: राष्ट्रीय गौरव एवं एकता का प्रतीक-इंजीनियरिंग का अद्भुत नमूना है ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’

योगेश कुमार गोयल वर्ष 2014 से लौहपुरूष सरदार पटेल की जयंती 31 अक्टूबर को ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ के रूप में मनाया जा रहा है। पिछले वर्ष इस विशेष अवसर को और भी विशिष्ट बनाया, उसी दिन राष्ट्र को समर्पित किए गए ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ (एकता की मूर्ति) ने, जो वास्तव में करीब साढ़े पांच फुट ऊंचे रहे सरदार वल्लभ भाई पटेल की उनकी ऊंचाई से सौ गुना से भी ज्यादा ऊंची लौह से निर्मित दुनिया की सबसे ऊंची गगनचुंबी प्रतिमा है, यह भारतीय इंजीनियरिंग कौशल का एक अद्भुत नमूना है।…

Read More