1496 खराब वाशिंग मशीनों से बनाया गया 44 फुट ऊंचा पिरामिड, वर्ल्ड रिकॉर्ड

यह पिरामिड कंपनी की ‘न्यू लाइफ नॉट लैंडफिल’ योजना को दिखाता है

लंदन। क्या पुरानी मशीनों से वर्ल्ड रेकॉर्ड बनाया जा सकता है? ब्रिटेन की एक कंपनी ने ये कर दिखाया है। इलेक्ट्रॉनिक रीसायक्लिंग के बारे में जागरूकता बढ़ाने वाली एक ब्रिटिश कंपनी ने 1,496 रीसायकल्ड वाशिंग मशीनों को 44 फुट के पिरामिड में जोड़कर गिनीज वर्ल्ड रेकॉर्ड बना दिया है। गिनीड वर्ल्ड रेकॉर्ड ने कहा कि करी पीसी वर्ल्ड ने मशीनों को जोड़कर 44 फीट 7 इंच लंबे पिरामिड को खड़ा करके सबसे बड़ा वाशिंग मशीन पिरामिड बनाया है।

और पढ़ें : सरकार के कल्याणकारी योजनाओ में ऑन द स्पॉट मिल रहा है जनता को लाभ

कंपनी ने हाल ही में एक सर्वे किया जिसमें पता चला कि 68 फीसदी लोगों को यह नहीं पता है कि उन्हें अपने इलेक्ट्रॉनिक कचरे का निपटान कहां और कैसे करें। कंपनी ने सितंबर 2021 में नेशनल रीसायक्लिंग वीक के दौरान सबसे बड़े वाशिंग मशीन पिरामिड के लिए पहला रेकॉर्ड स्थापित करने का फैसला लिया। यह पिरामिड कंपनी की ‘न्यू लाइफ नॉट लैंडफिल’ योजना को दिखाता है।

कंपनी की यह योजना पुरानी इलेक्ट्रॉनिक मशीनों को रीसायक्लिंग, रिपेयरिंग और रिहोमिंग के माध्यम से नया जीवन देती है। पिरामिड का बेस वर्गाकार था जिसके किनारे 31 फीट 7.5 इंच लंबे थे। इसमें 256 वाशिंग मशीनों को शामिल किया गया था। खास बात यह कि पिरामिड में कोई सपोर्ट सिस्टम नहीं लगा हुआ था। पिरामिड को बनाने में कंपनी को क्रेन सेफ्टी और सहायता मुहैया कराई थी।

वीडियो देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें : YouTube

पिरामिड को बनाने में इस्तेमाल की गईं सभी वाशिंग मशीनों को रीसायकल किया जाएगा। रेकॉर्ड का आइडिया करी प्रेस्टन स्टोर मैनेजर डैरेन केनवर्थी का था जिन्होंने अपने कर्मचारियों को इस काम के लिए राजी किया। इससे पहले दक्षिण अमेरिकी देश वेनेजुएला में दुनिया के सबसे बड़े ऑर्केस्टा का खिताब अपने नाम किया था। इस ऑर्केस्ट्रा में 8573 म्यूजिशियन शामिल थे, जो अपने आप में वर्ल्ड रिकॉर्ड है। इन म्यूजिशियन में अधिकतर बच्चे और युवा शामिल थे।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और खबरें देखने के लिए यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। www.avnpost.com पर विस्तार से पढ़ें शिक्षा, राजनीति, धर्म और अन्य ताजा तरीन खबरें

This post has already been read 19888 times!

Related posts