13 वर्षीय लड़की का अपहरण और धर्म परिवर्तन

इस्लामाबाद, :  पाकिस्तान में 13 वर्षीय ईसाई लड़की आरज़ू रज़ा को कथित रूप से बलपूर्वक 44 वर्षीय एक व्यक्ति द्वारा अपहरण करने के मामले में विभिन्न मानवाधिकार संगठनों ने आरजू रजा को इंसाफ दिये जाने की वकालत की है।
दरअसल, आरजू को जबरदस्ती इस्लाम कबूल करवाया गया और कथित रूप से उसके अपहरणकर्ता के साथ उसका ब्याह करवा दिया गया।
ह्यूमन राइट फोकस पाकिस्तान (एचआरएफपी) के अध्यक्ष नवीन वॉल्टर ने कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियों खासकर ईसाई और हिंदुओं का जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाया जाता है और उनकी शादी मुस्लिम समुदाय के मर्दों के साथ करवा दी जाती हैं।
पहले अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियों को अगवा किया जाता है फिर जिस थाने में उसके परिवार वाले शिकायत दर्ज करवाते हैं उसी थाने से उन्हें खबर मिलती है कि उनकी बेटी ने धर्म परिवर्तन कर लिया है और अगवा करने वाले के साथ उसकी शादी हो गई है। एक ही दिन में अगवा करना, धर्म परिवर्तन करना और शादी करना, यहा आम बात है । आरजू के साथ भी कुछ इसी तरह हुआ है।
एचआरएफपी की तथ्यान्वेषी टीम ने सिंध हाईकोर्ट के समक्ष 27 अक्टूबर, 2020 की कार्यवाही में यह बात उजागर की कि किस तरह उस लड़की के सारे रिकॉर्ड को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया। इसमें उसकी उम्र 18 वर्ष दिखाई गई और यह बताया गया कि इसने अपनी मर्जी से इस्लाम कबूल किया है और शादी की है।
 कोर्ट में आरजू को उसकी मां से मिलने नहीं दिया गया। आरजू की उम्र 13 वर्ष है, जो कि उसके स्कूल के रिकॉर्ड और सर्टिफिकेट से साबित होती है लेकिन उसको कोर्ट में गलत तरीके से एक वयस्क के तौर पर दिखाया गया। 
जस्टिस फॉर माइनॉरिटी इन पाकिस्तान की प्रवक्ता अनिला गुलजार ने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि अल्पसंख्यकों को पाकिस्तान में उचित स्थान नहीं मिलता। वे वहां सुरक्षित भी नहीं है। कानून के हिसाब से पाकिस्तान में जो भी बलपूर्वक या बाल विवाह में लिप्त पाया जाएगा, उसे 3 वर्ष की सजा होगी परन्तु जब यह केस कोर्ट के समक्ष आया तो कोर्ट का कहना था कि आरजू इतनी बड़ी है कि वह अपना फैसला खुद ले सकती है।
पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के लिए कोई आवाज नहीं उठाई जाती? मानवाधिकार वाले और राजनेता वहां अल्पसंख्यकों पर हो रही ज्यादती पर कुछ भी बोलने से कतराते हैं। यहां तक कि कोर्ट से भी इंसाफ की उम्मीद नहीं की जा सकती ।

This post has already been read 1853 times!

Sharing this

Related posts