वाहन उद्योग में एक साल में 13 लाख लोगों ने गवाईं नौकरी : सियाम

नई दिल्ली । देश में वाहन निर्माता कंपनियों के संगठन सियाम ने मंगलवार को वाहन बिक्री और ऑटो सेक्टर में नौकरियों के मौजूदा हालात पर आंकड़ें जारी किए। इस अवसर पर सियाम के महानिदेशक विष्णु माथुर ने विभिन्न स्रोतों से प्राप्त आंकड़ों का हवाला देते हुए बताया कि वाहन उद्योग में पिछले एक साल से जारी मंदी की वजह से करीब 13 लाख लोगों की नौकरियां गई है। इसके अलावा इस सेक्टर में गहराते संकट से बड़े पैमाने पर नौकरियां जाने का संकट खड़ा हो गया है, जिसके सरकार से तत्काल राहत पैकेज मुहैया कराने की मांग की है। 

माथुर ने कहा कि सबसे ज्यादा असर वाहनों के कलपुर्जे बनाने वाली कंपनियों पर पड़ा है। एक रिपोर्ट के अनुसार इस सेक्टर में करीब 11 लाख लोगों की नौकरी गई है। इनमें से एक लाख लोगों की छटनी बड़ी कंपनियों और 10 लाख लोगों की छटनी छोटे आपूर्तिकर्ताओं ने की है। वहीं, करीब 300 डीलरशिप बंद हो चुके हैं। साथ ही डीलरों ने 02 लाख 30 हजार लोगों को नौकरी से निकाला है। 
सियाम ने जिन 10-15 वाहन निर्माता कंपनियों के आकंड़े एकत्र किए हैं। उन्होंने भी 15 हजार लोगों को नौकरी से निकाला है। इसमें सबसे ज्यादा गाज अस्थायी कर्मचारियों पर गिरी है। साथ ही माथुर ने कहा कि सियाम पिछले कई महीनों से सरकार से राहत पैकेज देने की मांग कर रहा है। उन्होंने कहा कि यदि  इसकी जल्द घोषणा नहीं की गई तो संकट और गहरा जाएगा। 
सियाम के महानिदेशक ने कहा कि जो स्थिति अभी है उससे तो लगता है कि संकट और भी गहरा गया है। मौजूदा आंकड़ों से स्प्ष्ठ की किस प्रकार राहत पैकेज की तत्काल जरूरत है। उन्होंने कहा कि अभी तो वाहन उद्योग अपनी ओर से बिक्री बढ़ाने का उपाय कर रहा है। केंद्र सरकार को भी हरकत में आना होगा।
उल्लेखनीय है कि हाल ही में उद्योग प्रतिनिधियों की सरकार के साथ बातचीत हुई है। इसके बाद केंद्र सरकार की  ओर से हरसंभव देने की बात कही गई है। गौरतलब है कि विभिन्न इंडस्ट्रीज के लोगों ने सरकार से एक लाख करोड़ रुपये के पैकेज देने की मांग की हुई है।  

This post has already been read 3253 times!

Sharing this

Related posts