वायरस की मदद से बढ़ेगी कंप्यूटरों की गति

सिंगापुर। वैज्ञानिकों ने कंप्यूटरों में बेहतर तरीके की मेमोरी को डिजाइन करने एवं व्यावहारिक बनाने के लिए एक वायरस का सफलातपूर्वक इस्तेमाल किया है जो कंप्यूटर की गति एवं कार्य दक्षता को बढ़ा सकता है। एक शोध में पाया गया कि तेज गति से चलने वाले कंप्यूटरों को विकसित करने का एक मुख्य तरीका है कि वायरस एम13 जीवाणुभोजी का इस्तेमाल कर मिली सेकेंड समय की देरी को घटाना। यह विषाणु ई कोलाई जीवाणु को संक्रमित करता है। समय में होने वाली यह देरी अक्सर पारंपरिक रेंडम एक्सेस मेमोरी (रैम) चिप एवं हार्ड ड्राइव के बीच सूचनाओं के स्थानांतरण एवं उसके संग्रहण से होती है। सिंगापुर यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी एंड डिजाइन (एसयूटीडी) के अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि रैम चिप तेज तो होती है लेकिन यह महंगी एवं अस्थिर होती है यानि सूचनाओं को बरकरार रखने के लिए इसे ऊर्जा की आपूर्ति चाहिए होती है। वहीं फेज चेंज मेमोरी रैम चिप की ही तरह तेज हो सकती है और यहां तक कि इसकी संग्रहण क्षमता हार्ड ड्राइव से ज्यादा होती है। नई मेमोरी तकनीक में ऐेसी वस्तु का इस्तेमाल किया गया जो क्रिस्टलीय एवं अक्रिस्टलीय स्थितियों के बीच खुद को बदल सकता है। पहली बार अनुसंधान में पाया गया कि एम13 जीवाणुभोजी का इस्तेमाल कर कम तापमान पर जर्मेनियम-टिन ऑक्साइड तारें बनाई जा सकती हैं और मेमोरी प्राप्त की जा सकती है। यह शोध अप्लाइड नैनो मैटेरियल्स में प्रकाशित हुआ है।

This post has already been read 779 times!

Sharing this

Related posts

Leave a Comment