जेईई एडवांस्ड 2024 के परिणामों में द पाठशाला, रांची की शानदार सफलता

रांची: 9 जून, 2024 – द पाठशाला, रांची को जेईई एडवांस्ड 2024 परीक्षा में अपने छात्रों के असाधारण प्रदर्शन की घोषणा करते हुए अत्यंत खुशी हो रही है। हमारे छात्रों ने एक बार फिर अपनी समर्पण, मेहनत और अकादमिक उत्कृष्टता का प्रदर्शन किया है, और भारत की सबसे प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं में से एक में उल्लेखनीय परिणाम हासिल किए हैं।
इस वर्ष, द पाठशाला गर्व से अपने 33 छात्रों की सफलता की घोषणा करता है, जिन्होंने जेईई एडवांस्ड 2024 में शानदार प्रदर्शन किया है। हमारे प्रमुख छात्रों में धैर्य पांडे, पियूष, हर्षित, प्रज्ञा, अभिनव, और सार्थक शामिल हैं। हमारे छात्र अर्पित ने शीर्ष 2089 रैंक हासिल कर संस्थान का नाम रोशन किया है। अभिनव ने 3492 रैंक, खितिज ने 4053 रैंक, पियूष ने 5805 रैंक, निखिल ने 7536 रैंक, वैश्नवी ने 8216 रैंक, इति ने 4971 रैंक, धैर्य ने 14867 रैंक, प्रज्ञा ने 15121 रैंक, सार्थक ने 15861 रैंक और हर्षित ने 17214 रैंक प्राप्त की है। ये परिणाम हमारे संस्थान के कठोर शैक्षणिक वातावरण, नवाचारी शिक्षण पद्धतियों और हमारे संकाय के अटूट प्रयासों का प्रमाण हैं।
द पाठशाला के निदेशक, शिवशंकर कुमार ने अपनी खुशी और गर्व व्यक्त करते हुए कहा, “हमें जेईई एडवांस्ड 2024 में हमारे छात्रों की उपलब्धियों पर अत्यधिक गर्व है। उनकी सफलता उनके कठिन परिश्रम, हमारे संकाय की प्रतिबद्धता और द पाठशाला में प्रदान किए गए मजबूत शैक्षणिक ढांचे का परिणाम है। हम युवा मस्तिष्कों को पोषित करने और उन्हें उनके शैक्षणिक और व्यावसायिक उद्देश्यों में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए तैयार करने के लिए समर्पित हैं।”
द पाठशाला की नवाचारी शिक्षण पद्धति, जिसमें व्यक्तिगत कोचिंग, नियमित मॉक टेस्ट और निरंतर प्रदर्शन विश्लेषण शामिल हैं, छात्रों को उनके लक्ष्यों को प्राप्त करने में मार्गदर्शन करने में महत्वपूर्ण रही है। संस्थान अपने छात्रों को सर्वोत्तम शिक्षा और समर्थन प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध रहता है, ताकि वे भविष्य की चुनौतियों के लिए अच्छी तरह से तैयार रहें।
द पाठशाला इन शानदार परिणामों का जश्न मनाते हुए, सभी सफल छात्रों और उनके परिवारों को हार्दिक बधाई देता है। हम अपने समर्पित संकाय सदस्यों का भी धन्यवाद करते हैं जिन्होंने हमारे छात्रों के भविष्य को आकार देने में अटूट प्रयास किए हैं।

This post has already been read 865 times!

Sharing this

Related posts