एक लाख का इनामी नक्सली एरिया कमांड लालदेव भुइयां गिरफ्तार

गढ़वा जिले की पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त छापेमारी में रंका के जंगल से पकड़ा गया

गढ़वा। गढ़वा जिले के रंका थाना पुलिस और सीआरपीएफ 172 बटालियन की संयुक्त टीम ने पलामू और लातेहार जिला के कई कांडों के फरार एक लाख का इनामी नक्सली एरिया कमांडर लालदेव भुइंया को सोमवार को गिरफ्तार किया है। सदर थाना में पत्रकार वार्ता आयोजित कर रंका एसडीपीओ विजय कुमार ने कहा कि पुलिस अधीक्षक शिवानी तिवारी को मिली गुप्त सूचना पर रंका पुलिस व सीआरपीएफ के अधिकारियों की विशेष टीम गठित कर छापेमारी की गई। इसमें रंका थाना क्षेत्र से लालदेव भुइयां को गिरफ्तार किया गया। नक्सली लालदेव भुइयां मुख्य रूप से पलामू जिले के पांकी थाना क्षेत्र के आबुन गांव का रहनेवाला है। गिरफ्तार नक्सली लालदेव भुइयां ने लातेहार जिले के मनिका थाने के बंदुआ गांव निवासी गौरी साह तथा पलामू जिले के पांकी थाने के चांपी गांव के एक व्यक्ति की पुलिस मुखबीरी के आरोप में भाकपा माओवादी के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर हत्या करने की बात स्वीकार की है। वहीं पाकी थाना के तेतरई में मोबाइल टावर जलाने के साथ-साथ अन्य नक्सली कांडों में भी अपनी संलिप्तता स्वीकारी है। एसडीपीओ ने कहा कि लालदेव भुइयां को रंका थाना क्षेत्र के जंगलों से गिरफ्तार किया गया। लालदेव भुइयां 20 वर्ष पहले प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी में सक्रिय सदस्य के रूप में शामिल हुआ था। बाद में उसे एरिया कमांडर बनाया गया। वह नक्सली गुट सब जोनल कमांडर नितेश यादव के दस्ता का एरिया कमांडर था। इसका कार्य क्षेत्र पलामू जिले के पांकी और मनिका था। उन्होंने कहा कि पूछताछ में लालदेव भुइयां ने पुलिस को कईं अहम जानकारी दी है। पुलिस उस पर काम कर रही है। एसडीपीओ विजय कुमार ने कहा कि लातेहार जिला के छीपादोहर निवासी भाकपा माओवादी के जोनल कमांडर मृत्युंजय, गढ़वा जिला के डंडई का रहने वाला राजू भुइयां तथा रंका थाना क्षेत्र के डेंगरा निवासी नक्सली पंकज कोरवा के इशारे पर जिले में मृत प्राय: हो चुके भाकपा माओवादी संगठन को लालदेव भुइयां पुन: खड़ा करने के लिए काम कर रहा था। वह अपने अपने 4-5 साथियों के साथ जिले में संगठन का प्रचार-प्रसार कर रहा था। इतना ही नहीं पुराने माओवादियों और जेल से छूट कर आने वाले सदस्यों को भी संगठन में काम करने के लिए प्रेरित कर रहा था। उन्होंने कहा कि जिले में भंडरिया थाना क्षेत्र के बूढ़ा पहाड़ क्षेत्र को छोड़कर नक्सली गतिविधि करीब समाप्त हो चुकी है। नक्सलियों का काम लेवी वसूलना और विकास कार्य को बाधित करना है।

This post has already been read 221 times!

Sharing this

Related posts

Leave a Comment