भारी-भरकम स्कूल बैग्स और स्वास्थ्य समस्याएं

-प्रेमा राय- स्कूल बैग्स के बोझ के कारण बच्चों की कमर झुक रही है, उनका पॉस्चर भी खराब हो रहा है। नई दिल्ली स्थित सर गंगाराम अस्पताल के न्यरो एंड स्पाइन डिपाटमेंट के डायरेक्टर डा.सतनाम सिंह छाबड़ा का कहना है कि अगर बच्चों का भारी स्कूल बैग ले जाना जारी रहा तो आगे चलकर उन्हें कईं स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है जैसे स्पोनडोलाइटिस, झुकी हुई कमर और पॉस्चर की समस्या. भारी बैग उठाने का बच्चों पर भावनात्मक प्रभाव भी पड़ता है, मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि भारी…

Read More

मेटोबॉलिज्म को धीमा करता है मेटाबोलिक सिंड्रोम

-डॉ. आशिष भनोत- सिलिम ट्रिम दिखना किसे पंसद नहीं होता है। आज हर दूसरा व्यक्ति कम से कम एक दो किलो वजन तो घटाना ही चाहता है और इसके लिए जी-तोड़ मेहनत भी करता है। लेकिन कुछ दिनों बाद सारी कोशिशें बेकार हो जाती हैं। कई बार तो हम कमर के बढ़ते साइज के लिए अपने मेटाबॉलिज्म को ही जिम्मेदार ठहरा देते हैं। इससे दिल को संतोष तो मिल जाता है, मगर मन-मुताबिक फिगर नहीं मिल पाता. हम सब जानते हैं कि हमारी सेहत चाहे जिस स्थिति में हो, उसके…

Read More

प्रशासनिक सेवा की राह कैसे बने आसान

-विनय राणा- संजीवनी गुप्ता की उम्र 16 वर्ष है। वो 12वीं कक्षा की वाणिज्य की छात्रा हैं। अर्थशास्त्र उनका पसंदीदा विषय है। पूछे जाने पर वे आंखों में चमक और मन में दृढ़ विश्वास लिए कहती हैं ‘मैं आईएएस बनना चाहती हूं।’ आज की गला काट प्रतियोगिता के युग में नव युवक और नव युवतियों ने अपने-अपने लक्ष्य शुरू से ही निर्धारित कर लिए हैं। अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए ये युवा पीढ़ी अपने स्कूल के दिनों से ही मेहनत करना शुरू कर देते हैं। और यदि लक्ष्य…

Read More

सारी मनोकामनाऐं पूर्ण करते हैं अष्ट विनायक

भगवान गणेश यूं तो अपने सभी स्वरूपों में पूर्ण होते हैं। भगवान गणेश शिव के गणों के प्रधान देव हैं। भारत भूमि में हर कहीं गणेश जी के विविध स्थान हैं। इन स्थानों में सभी स्थान प्रमुख और जागृत हैं। अष्टविनायक से तात्पर्य है आठ गणेश जी। ये आठ गणेश अति प्राचीन हैं। इन मंदिरों में भगवान गणेश की जागृत शक्तियां हैं। अष्टविनायक के 8 पवित्र मंदिर 20 से 110 किलोमीटर के क्षेत्र में हैं। मंदिरों का पौराणिक महत्व व इतिहास बहुत ही लोकप्रिय है। इन गणपतियों का उल्लेख मुद्गल…

Read More

बॉडी शेप के हिसाब से ऐसे चुनें बेल्ट्स और पाएं ट्रेंडी लुक

बेल्ट आपके वार्डरोब का अभिन्न अंग है। लेकिन क्या आपको पता है कि आपके बॉडी टाइप के हिसाब से भी बेल्ट खरीदी जाती है। जी हां, अक्सर देखा गया है कि लड़कियां रंग और डिजाइन के छलावे में आकर कोई भी बेल्ट ले लेती हैं। लेकिन यह करना उनकी पर्सनेलिटी पर भारी पड़ सकता है। बेल्ट की खरीदारी करते समय फिगर को ध्यान रखना भी जरूरी होता है या फिर फिगर को ध्यान में रखकर पहनी हुई बेल्ट आपकी खूबसूरती को और अधिक बढ़ा सकती है। बेल्ट्स महज फैशन एक्सेसरीज…

Read More

व्यंग्य: पंच महाराज

-बालकृष्ण भट्ट- माथे पर तिलक, पांव में बूट चपकन और पायजामा के एवज में कोट और पैंट पहने हुए पंच जी को आते देख मैं बड़े भ्रम में आया कि इन्हेंट मैं क्याप समझूं पंडित या बाबू या लाला या क्या ? मैंने विचारा इस समय हिकमत अमली बिना काम में लाए कुछ निश्चंय न होगा, बोला-पालागन, प्रणाम्, बंदगी, सलाम, गुडमार्निंग पंच महाराज- पंच-न-न-नमस्काधर नमस्काुर-पु-पु-पुरस्कांर-परिस्कारर मैंने कहा-मैं एक बात पूछना चाहता हूं बताइएगा- पंच-हां-हां पू-पू पूछो ना-ब-बताऊंगा, क्यों नहीं। आप अपने नाम का परिचय मुझे दीजिए जिससे मैं आपको जान…

Read More

कहानी: एक आदिम रात्रि की महक

-फणीश्वरनाथ रेणु- न …करमा को नींद नहीं आएगी। नए पक्के मकान में उसे कभी नींद नहीं आती। चूना और वार्निश की गंध के मारे उसकी कनपटी के पास हमेशा चौअन्नी-भर दर्द चिनचिनाता रहता है। पुरानी लाइन के पुराने इस्टिसन सब हजार पुराने हों, वहां नींद तो आती है।…ले, नाक के अंदर फिर सुड़सुड़ी जगी ससुरी…! करमा छींकने लगा। नए मकान में उसकी छींक गूंज उठी। करमा, नींद नहीं आती? बाबू ने कैंप-खाट पर करवट लेते हुए पूछा। गमछे से नथुने को साफ करते हुए करमा ने कहा-यहां नींद कभी नहीं…

Read More

जब अर्जुन को रात में आया स्वप्न

अर्जुन ने एक रात को स्वप्न में देखा की एक गाय अपने नवजात बछड़े को प्रेम से चाट रही है। चाटते-चाटते वह गाय उस बछड़े की कोमल खाल को छील देती है। उसके शरीर से रक्त निकलने लगता है और वह बेहोश होकर नीचे गिर जाता है। एकाएक अर्जुन भी नींद से जाग जाते हैं, तत्पश्चात् उन्हें सुबह तक उक्त स्वप्न के कारण नींद भी नहीं आती। अर्जुन प्रातः यह स्वप्न भगवान को बताते है। भगवान मुस्कुरा कर कहते हैं की यह स्वप्न कलियुग का लक्षण है। कलियुग में माता…

Read More

अपने नवजात को कुछ इस तरह लपेटें

जन्म से पहले तक गर्भ में शिशु एक छोटे से जगह में रहने का आदि होता है। इसलिए शिशु को ऐसी जगह पर ही सुरक्षित महसूस होता है। जन्म के बाद जब बच्चा खुले में रहता है, तो बच्चे को कुछ समस्या हो सकती है या वह असहज महसूस कर सकता है। इसलिए ही आरंभ में उसे लपेट कर रखा जाता है। माना जाता है की लपेटने से शिशु उस समय भी आराम से रहता है जब वह उत्तेजित होता है। दरअसल देश के विभिन्न हिस्सों में शिशुओं को मुलायम…

Read More

प्राकृतिक सुंदरता का लुत्फ उठाना है तो सिक्किम जाएं

सिक्किम भारत का एक पर्वतीय राज्य है। सिक्किम की जनसंख्या भारत के राज्यों में न्यूनतम है और क्षेत्रफल गोवा के बाद न्यूनतम है। यहां का गुरुदौंगमर लेक लोगों को खासतौर पर अट्रैक्ट करता है। प्राकृतिक सुंदरता से सराबोर सिक्किम के हर हिस्से की अपनी खासियत है, लेकिन टूरिस्टों को उत्तरी सिक्किम की कुछ जगहें ज्यादा ही पसंद आती हैं। इनमें गुरुदौंगमर लेक और सर्व धर्म स्थल मुख्य हैं। गुरुदौंगमर लेक इसे दुनियाभर में सर्वाधिक ऊंचाई वाली झीलों में से एक माना जाता है। यह लेक चारों तरफ से बर्फीले पहाड़ों…

Read More