30 के बाद दिखें और भी खूबसूरत

तीस की उम्र के करीब पहुंचने के बाद स्त्रियों के लिए कठिन समय आता है। इस समय वे अपने करियर और पारिवारिक जीवन में पूरी तरह से जुट जाती हैं और त्वचा उम्र ढलने की तरफ इशारा करने लगती है। शारीरिक रूप से हमारा मेटाबॉलिज्म कम होने लगता है, वजन बढने और बाल पतले होने लगते हैं। उम्र के इस पडाव पर जब हम अपनी त्वचा में इस तरह का बदलाव देखते हैं तो परेशान हो जाते हैं। इस उम्र में त्वचा की देखभाल कैसे की जाए सखी के साथ…

Read More

गलती का एहसास

-रेनू सैनी- रिया, फैजल और अमन आठवीं कक्षा में पढ़ते थे। तीनों पढ़ाई के साथ-साथ खेल-कूद, डांस और नाटक के कार्यक्रमों में भी आगे रहते थे। फैजल गणित में बहुत होशियार था। एक दिन अमन ने उससे एक सवाल समझाने को कहा। फैजल उस समय साइंस का प्रोजेक्ट बना रहा था। वह बोला, ‘यार, मेरा थोड़ा सा काम रह गया है। इसे खत्म कर लूं, फिर तुझे समझाता हूं। बीच में एकाग्रता भंग होने से काम अधूरा रह जाएगा।’ यह कहकर फैजल अपने काम में लग गया। लेकिन अमन को…

Read More

चरित्र मानव जीवन की स्थायी निधि है…

सद्भावना के लिए आवश्यक है चरित्र। सद्विचारों और सत्कर्मों की एकरूपता ही चरित्र है। जो अपनी इच्छाओं को नियंत्रित रखते हैं और उन्हें सत्कर्मों का रूप देते हैं, उन्हीं को चरित्रवान कहा जा सकता है। संयत इच्छाशक्ति से प्रेरित सदाचार का नाम ही चरित्र है। चरित्र मानव जीवन की स्थायी निधि है। जीवन में सफलता का आधार मनुष्य का चरित्र ही है। चरित्र मानव जीवन की स्थायी निधि है। सेवा, दया, परोपकार, उदारता, त्याग, शिष्टाचार और सद्व्यवहार आदि चरित्र के बाह्य अंग हैं, तो सद्भाव, उत्कृष्ट चिंतन, नियमित-व्यवस्थित जीवन, शांत-गंभीर…

Read More

समुद्र की दुनिया पसंद है तो मर्चेंट नेवी में जाएं

समुद्र की दुनिया, धरती की दुनिया की तरह ही बहुत सुंदर है। जरूरत है तो इसे देखने और महसूस करने की। यदि आप समुद्री दुनिया के इर्द-गिर्द रहना चाहते हैं? अगर आपको विदेशों की सैर करने का शौक है, तो निश्चित तौर पर आपके लिए मर्चेंट नेवी में कॅरियर बनाना मददगार साबित हो सकती है। इसे कहते हैं मर्चेंट नेवी:- मर्चेंट नेवी दरअसल एक विषय है जिसके अंतर्गत यात्री जहाज, मालवाहक जहाज, तेल और रेफ्रिजरेटेड जहाज आते हैं। इन जहाजों के संचालन के लिए एक तकनीकी रूप से ट्रेंड टीम…

Read More

विजयवाड़ा में सिमटी हैं बहुत सी किंवदंतियां

आंध्र प्रदेश में बहने वाली भारत की विख्यात नदी कृष्णा और इसकी सहायक बुडमेरू नदी के बीच के क्षेत्र में विजयवाड़ा शहर कई किंवदंतियों को अपने में समेटे हुए है। यह सामाजिक, राजनीतिक और शैक्षणिक चिंतन का केंद्र भी माना जाता है। यहां के लोग तेलुगू भाषा बोलते हैं। यहां के दर्शनीय स्थलों की बात करें तो सबसे पहला नाम गांधी हिल का आता है। इस पहाड़ी के शिखर पर 15.8 ऊंचा गांधी स्तूप खड़ा है जो विजयवाड़ा का सबसे ऊंचा स्थल है। इसे 1968 में बनाया गया था। अन्य…

Read More

गुर्दे की पथरी है आम बीमारी, बचें कैसे

मानसी के ससुर लगभग साठ वर्ष के हैं। उसने बताया कि उनके कमर में, पेट तथा रीढ़ की हड्डी के आसपास तेज दर्द होता है। चूंकि वे लोग शहर में नए हैं इसलिए मानसी को मैंने तुरंत अपने फैमिली डॉक्टर से मिलने की सलाह दी। जांच के बाद डॉक्टर ने बताया कि उन्हें गुर्दे की पथरी के कारण यह तकलीफ हो रही है। मानसी के ससुर काफी घबराए हुए थे क्योंकि वे आपरेशन करवाने से बहुत डरते हैं। परंतु डॉक्टर ने उन्हें किरणों से इलाज के बारे में बताया तो…

Read More

व्यंग्य: नेता को मत दोष दो

-यज्ञ शर्मा- हिंदुस्तान को आजाद हुए साठ से ज्यादा साल हो गये। लेकिन, अी तक हिंदुस्तानी लोग अपने नेताओं को समझे नहीं हैं। नेता ने कीमती जमीन अपने बेटे को दे दी। लोगों को इसमें बेईमानी नजर आ रही है। यह जनता की नजर का दोष है। अगर, जनता की नजर सही होती तो उसे इसमें जिम्मेदारी और भरोसा नजर आते। जरा सोचिए, नेता ने जो जमीन अपने बेटे को दी वह किसकी है? सरकार की! और, सरकार किसकी है? नेता की! तो अपनी जमीन, अपने बेटे को दे कर…

Read More

तमिल कुल के राघव थे अद्भुत हिंदी लेखक

रांगेय राघव का रचना संसार इतना विस्तृत है कि उनकी तुलना सिर्फ राहुल सांस्कृत्यायन से की जा सकती है। कथाकार, बुद्धिजीवी राजेंद्र यादव ने एक बार कहा था कि रांगेय राघव की तुलना हिंदी संसार में सिर्फ राहुल जी (राहुल सांकृत्यायन) से की जा सकती है लेकिन उन्हें तो उम्र भी बहुत मिली थी। रांगेय राघव ने मात्र 39 साल की उम्र में उपन्यास, कहानी, कविता, नाटक, रिपोर्ताज जैसी विविध विधाओं में करीब 150 कृतियों को अंजाम दिया। उनकी लेखकीय प्रतिभा का ही कमाल था कि सुबह यदि वे आद्यैतिहासिक…

Read More

कसौली ये वादियां ये फिजाएं

कसौली यानी हिमाचल प्रदेश का ऐसा हिल स्टेशन, जो अपनी खुशनुमा आबोहवा के लिए दुनिया भर में लोकप्रिय है। प्रसिद्ध हिल स्टेशन शिमला से भी अधिक ऊंचाई (3,647 मीटर) पर स्थित कसौली शिमला वाली भीड़ से तो दूर है ही, पल-पल में बदलने वाली यहां की हवा इसे और खास बना देती है। यहां देखते-देखते हवा बदलने लगती है और बादलों का समूह पलभर में ही धूप के नीचे छाकर बरस पड़ता है। दूसरे ही पल मौसम साफ और चारों तरफ से तन-मन को रोमांचित करने वाली खुशनुमा हवा छूने…

Read More

बच्चों के डॉक्टर बनकर करें सेवा

आधुनिक समाज में बच्चों के साथ उठने वाली व्यवहारिक समस्याओं को सुलझाने में अक्सर पारंपरिक नुस्खे असफल साबित होते हैं। ऐसे में जरूरी है बाल मनोचिकित्सक की मदद लेना। एक बाल मनोचिकित्सक बालमन की अबूझ पहेलियों का पता लगा कर उसे सही दिशा में आगे बढऩे को प्रेरित करता है। एक बाल मनोचिकित्सक संबंधों में पैदा होने वाली समस्याओं, परिवार से जुड़े अवसाद के मामलों, परीक्षा संबंधी बेचैनी और पढ़ाई से जुड़ी मुश्किलों मसलन डिस्लेक्सिया के बारे में परामर्श सेवा प्रदान करता है। वह कैरियर से जुड़ा मार्गदर्शन भी देता…

Read More