तुष्‍टीकरण की राजनीति और पासपोर्ट विवाद

: डॉ मयंक चतुर्वेदी क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय लखनऊ में जो घटा उसने देश में राजनीतिक दलों द्वारा तुष्‍टीकरण की राजनीति कि‍स तरह से की जाती है, इसकी याद फिर से ताजा कर दी है। जिस तरह से पासपोर्ट विभाग के अधिकारी विकास मिश्रा को तन्वी निकाहनामे के बाद बदला नाम सादिया असद तथा उसके मुस्‍लिम पति अनस सिद्दीकी के पासपोर्ट न बनाने को लेकर जल्‍दबाजी करते हुए कठघरे में खड़ा किया गया, उससे यही संदेश गया कि विदेश मंत्रालय ने अपने ही अधिकारी के साथ न्‍याय नहीं किया है। यदि…

Read More

जिस वीपी सिंह के बदौलत सत्ता पाये, उन्ही को भुलाए

: कृष्णमोहन देश के आठवें प्रधानमंत्री रहे विश्वनाथ प्रताप सिंह का जन्म दिन 25 जून को है। लेकिन इसे बहुत से वे सत्ताधारी, केन्द्र व राज्यों में राजनीति के शिखर पर विराजे, जातिय खांचे को वोट के खांचे में दिखाकर, बताकर उसका अपने को नेता होने का दावा कर रहे चेहरे, उनको याद करने से जानबूझ कर कन्नी काटते हैं। इसकी वजह बताते हुए उप्र में वीपी सिंह की सरकार में मंत्री रहे सुरेन्द्र सिंह का कहना है कि ऐसे नेता यह करेंगे तो विश्वनाथ प्रताप सिंह के सामने बौने…

Read More

धड़क’ ने बढ़ायी धड़कन

 : प्रकाश के रे निर्देशक शशांक खेतान की ‘धड़क’ का ट्रेलर चर्चा का विषय बना हुआ है। यह फिल्म नागराज मंजुल की सुपरहिट मराठी फिल्म ‘सैराट’ पर आधारित है। जातिवादी मानसिकता में अंतर्निहित हिंसा किस तरह ‘आॅनर किलिंग’ के वीभत्स सामाजिकता में परिणत हो जाती है, इसे मार्मिकता से चित्रित कर मंजुले ने एक गंभीर सिनेमाई हस्तक्षेप किया था। महज चार करोड़ में बनी यह फिल्म बहुत जल्दी सौ करोड़ का आंकड़ा पार कर गयी। इसे दर्शकों के साथ समीक्षकों की भी जोरदार सराहना हासिल हुई थी। अब देखना यह…

Read More

फैन को पता है मिताली का रिकॉर्ड?

 : मोहम्मद शहजाद खेल एक ही है। कप्तान दो हैं। एक की उपलब्धियां विराट हैं। दूसरे का खेल पर राज है। बस अंतर पुरुष और महिला खिलाड़ी होने का है। क्या महज लैंगिक अंतर के नाते दूसरी के साथ भेदभाव हो सकता है? इस तुलनात्मक टिप्पणी का आशय भारतीय क्रिकेट की पुरुष और महिला टीमों के कप्तान विराट कोहली व मिताली राज के बीच कोई लकीर खींचना नहीं है। मकसद उस पितृ-सत्तात्मक सोच को उजागर करना है, जो समाज के दीगर क्षेत्रों की तरह ही खेलों के प्रति भी नजर…

Read More

यह तमाशा नहीं सौंदर्य प्रतियोगिता है !

 : प्रतिभा कुशवाहा हम अब और अपने प्रतियोगियों को उनके शारीरिक मापदंडों के अनुसार जज नहीं कर सकते। यह सौंदर्य तमाशा नहीं, प्रतियोगिता है।’ मिस अमेरिका प्रतियोगिता से स्विमिंग सूट राउंड खत्म किए जाने की घोषणा करते हुए ग्रेचन कार्लसन ने यह बात कही। ग्रेचन कार्लसन मिस अमेरिका आॅर्गनाइजेशन की चेयरवुमन हैं। कार्लसन 1989 में मिस अमेरिका भी रह चुकी हैं और इस समय वे एक पत्रकार और टीवी प्रजेंटेटर के रूप में काम कर रही हैं। पूरे विश्व में यौन उत्पीड़न के विरोध में चला हैशटैग मी टू अभियान…

Read More

मोदी की फिटनेस चुनौती पर भी सतही राजनीति

: सियाराम पांडेय ‘शांत’ स्वस्थ रहना प्रकृति का सबसे बड़ा उपहार है। ईश्वर का अनंत उपकार है। नीति भी कहती है कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन-मस्तिष्क का निवास होता है। तंदुरुस्ती को लाख नियामत कहा गया है। ऐसे में अगर प्रधानमंत्री पूरे देश को स्वच्छ रहने और स्वस्थ रहने की सलाह दे रहे हैं, तो इसमें आपत्तिजनक क्या है? क्या इस देश के हर आदमी को स्वस्थ नहीं रहना चाहिए? गीता में भी कहा गया है कि उचित आहार-विहार से ही शरीर को स्वस्थ रखा जा सकता है।…

Read More

आतंकियों पर मत कीजिये रहम

 : दिव्य उत्कर्ष पाकिस्तान और उसकी शह पर पलने वाले आतंकवादियों ने रमजान के दौरान केंद्र सरकार के सीजफायर के दौरान अपनी हरकतों से साफ कर दिया है कि वे कभी भी सुधर नहीं सकते। केंद्र सरकार ने इस उम्मीद से एकतरफा सीजफायर का ऐलान किया था, ताकि रमजान का महीना शांतिपूर्वक मनाया जा सके और मुस्लिम समाज में विश्वास की भावना को जगाया जा सके। सरकार का इरादा आतंकवादियों और अलगाववादी गुटों को सद्भावपूर्ण माहौल में बातचीत का रास्ता अख्तियार करने के लिए प्रेरित करने का भी था। भारत…

Read More

योग से हासिल हो सकती है वैश्विक शान्ति

: प्रभुनाथ शुक्ल भारत की समस्त सृष्टि और संस्कार में योग समाहित है। योग मानसिक और शारीरिक विकारों से मुक्ति का आध्यात्मिक और वैज्ञानिक ज्ञान है। इसकी सार्थकता को दुनिया के कई धर्मों ने स्वीकार किया है। योग सिर्फ व्यायाम का नाम नहीं बल्कि इसके आठ आयामों के जरियए हम मन, मस्तिष्क और शरीर को नियंत्रित कर सकते हैं। आधुनिक जीवन पद्धति में योग सेहत और स्वास्थ्य से जुड़ा गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी योग की बदौलत सोशल मीडिया पर फिटनेश वीडिओ पोस्ट कर देशवासियों को स्वस्थ रहने की चुनौती…

Read More

नौकरशाही में सुधार की कवायद

: डॉ. कविता सारस्वत केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने आखिर नौकरशाही में बदलाव का वह कदम ही उठा लिया, जिसकी सालों से प्रतीक्षा की जा रही थी। अब नौकरशाही में बड़ा अधिकारी बनने के लिए संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विस परीक्षा पास करना जरूरी नहीं रह गया है। अन्य क्षेत्रों में भी विशिष्टता वाला काम कर रहे अनुभवी अधिकारी अब सरकार का हिस्सा बन सकते हैं। रविवार को ही डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग (डीओपीटी) ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है और इसके लिए…

Read More

शांगरी ला संवाद में मोदी

: बनवारी वैश्विक पटल पर रणनीतिक विषयों पर बात करने के लिए मशहूर ‘शांगरी ला संवाद’ में इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी बात रखी। अमेरिका और चीन दोनों को ही यह अपेक्षा थी कि प्रधानमंत्री मोदी का भाषण उनकी दृष्टि के अनुकूल होगा। लेकिन नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में मध्य मार्ग अपनाते हुए अपने वक्तव्य में भारत की रणनीतिक दृष्टि को स्पष्ट किया। से ‘शांगरी ला संवाद’ रणनीतिक विषयों पर बात करने के लिए एक महत्वपूर्ण प्लेटफार्म हो गया है। लंदन से संचालित होने वाली इस संस्था…

Read More